राष्ट्रीय-युवापर्व पर डॉ राजाराम त्रिपाठी हुए सम्मानित,

0
31

अपनी धरती पर, अपने लोगों के बीच,अपनों के द्वारा सम्मानित होना दिल को छू गया,यह विलक्षण तथा अनमोल है: डॉ त्रिपाठी,

डॉ भंज, शिक्षाविद सिद्धार्थ चौधरी तथा खेल प्रशिक्षक सुरंजन आचार्या का भी हुआ सम्मान,

सम्मान व अवार्ड्स से समाज के लिए और बेहतर कार्य करने की मिलती है प्रेरणा तथा ऊर्जा ,: डॉ त्रिपाठी

युग दृष्टा एवं महानायक स्वामी विवेकानंद की 160 वी जयंती पर कोंडागांव जिले की काली बाड़ी युवा समिति द्वारा आयोजित एक गरिमामय में कार्यक्रम में समाज सेवा के क्षेत्र में लंबे समय से कार्यरत अंचल की चुनिंदा विभूतियों समिति के सदस्यों द्वारा सम्मान तथा नागरिक अभिनंदन किया गया। इस अवसर जैविक हर्बल कृषि, पर्यावरण संरक्षण तथा सामाजिक एवं विशेषकर जनजातीय सरोकारों को लेकर लेखन,संपादन के क्षेत्र में पिछले 3 दशकों से कोंडागांव क्षेत्र का नाम देश तथा विदेशों में लगातार रोशन कर रहे “हरित-योद्धा” डॉ राजाराम त्रिपाठी को कालीबाड़ी समिति के वरिष्ठ सदस्यों के द्वारा भारतीय परंपरागत पद्धति से श्रीफल तथा अंग वस्त्र ओड़ा कर सम्मानित करते हुए सार्वजनिक नागरिक अभिनंदन किया गया। उल्लेखनीय है कि डॉक्टर त्रिपाठी देश के पहले प्रमाणित जैविक हर्बल फार्म तथा रिसर्च सेंटर एवं जैविक हर्बल किसानों के सबसे बड़े समूह “मां दंतेश्वरी हर्बल समूह के संस्थापक हैं तथा वर्तमान में देश के 223 अग्रणी किसान संगठनों के द्वारा बनाए गए “एमएसपी गारंटी- किसान मोर्चा” के राष्ट्रीय प्रवक्ता भी हैं, तथा विभिन्न किसान संगठनों के महत्वपूर्ण पदों के साथ ही आयुष मंत्रालय भारत सरकार के नेशनल मेडिसिनल प्लांट बोर्ड के सदस्य भी हैं। डॉक्टर त्रिपाठी के अलावा चिकित्सा के क्षेत्र में लंबे समय से अंचल की दिन रात सेवा करने वाले जन-जन में लोकप्रिय डॉक्टर देबीदत्त भंज , छात्रों के प्रिय तथा मार्गदर्शक शिक्षाविद सिद्धार्थ चौधरी(काजू दादा) एवं कोंडागांव में खेलों के द्रोणाचार्य कहे जाने वाले सुरंजन आचार्या दादा का भी सम्मान किया गया।इस अवसर पर उपस्थित जनसमुदाय को संबोधित करते हुए डॉक्टर राजाराम त्रिपाठी ने कहा कि यूं तो पिछले तीन दशकों में उन्हें देश विदेश में सैकड़ों सम्मान व अवार्ड मिले हैं, लेकिन अपनी धरती पर, अपने लोगों के बीच, अपनों के द्वारा सम्मानित होना एक विलक्षण अनुभव है। यह दिल को छू जाता है। इस सम्मान की तुलना किसी भी अन्य अवार्ड से नहीं की जा सकती यह अनमोल है। ऐसे सामाजिक सम्मानों से हमें समाज के लिए और बेहतर कार्य करने की प्रेरणा तथा उर्जा मिलती है।
इस अवसर पर कालीबाड़ी युवा समिति द्वारा 5 वर्ष से 18 वर्ष तक के बच्चों की विभिन्न समूहों के लिए स्वामी विवेकानंद के थीम पर चित्रकला रंगोली भाषण गीत फैंसी ड्रेस एवं नृत्य प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जय प्रतिभागियों को अवार्ड तथा पारितोषिक भी प्रदान किए गए। कार्यक्रम में नागरिक अभिनंदन द्वारा सम्मानित किए गए विशिष्ट अतिथियों के अलावा वरिष्ठ साहित्यकार ब्रजेश तिवारी अंचल में किशोर कुमार के नाम से मशहूर गायक श्री दुष्यंत ढाली के साथ ही बादल कर्मकार, श्री मधुसुदन दास, श्री अमित दास, श्री प्रहलाद शील, श्री जगन्नाथ चक्रवर्ती, श्री गोविन्द पाल,श्री कन्हैया विश्वास, श्री रितेश मुखर्जी, श्री गजेन्द्र शाक्य, श्री गौतम चक्रवर्ती, श्री राजू मण्डल, श्री आशुतोष साहा, श्री आदित्य आचार्य,श्री प्रदीप सरकार, श्री बसंत देवांगन, श्री प्रशांत दत्ता, श्री अनूप साहा, श्री परितोष समद्दार, श्री आशीष राय, श्री श्याम मुखर्जी,श्री विवेक, बैरागी, श्री अमूल्य कर्मकार, श्री विजय दास, श्री दुष्यंत ढाली, श्री वासुदेव मजुमदार, श्री रामकृष्ण धर, श्री एस.एन. स्वर्णकार, श्री शंकर सरकार, श्री अमित गुप्ता, श्री हितेन घोष, श्री अमल बसु राय, श्री अशोक साहा, श्री मृदुल विश्वास, श्री श्याम माझी, श्री गौतम माली, श्री विरेन्द्र नाथ साहा, श्री सन्नी सिंह, श्री कन्हाई राय, श्री संदीप चटर्जी, श्री प्रसन्नजीत साहा, श्री तपन दास, श्री मोती तालुकदार,श्री प्रतुल कुमार सेन, श्री आकाश साहा, श्री अनुराग दत्ता आदि सक्रिय सदस्यों एवं समस्त कालीबाड़ी परिवार के बहुसंख्य सदस्यों की सपरिवार उपस्थिति उल्लेखनीय रही। पूरे कार्यक्रम का बेहतरीन संचालन अनूप विश्वास के द्वारा अपने विशिष्ट अंदाज में किया गया। कार्यक्रम के अंत में प्रीतिभोज की व्यवस्था भी की गई।

विवेक कुमार 
मां दंतेश्वरी हर्बल समूह
mdhorganic@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here